Search Bar

तेज हार्ट रेट के ये कारण हो सकते है। करे तुरंत कण्ट्रोल

www.myhealthcapsule.com


हार्ट रेट यानि की दिल की धड़कन TACHYCARDIA कहते है। इसका ज्यादा जोर से धड़कना हो सकता है हानिकारक ,ये दिल के लिए बड़ी समयस्या हार्ट अटैक, हार्ट फेल्योर, कार्डियक अरेस्ट, स्ट्रोक, किडनी फेल्योर, आदि का कारण बन सकता है। यदि मेहनत वाले काम के समय आपका हार्ट रेट ज्यादा है तो ये सामान्य बात है। पर यदि रोज के जिंदगी में भी आपका हार्ट रेट जयादा है तो सावधान हो जाइये। सामान्यतः दिल की धड़कन 1 मिनट में 60 - 100 बार धड़कता है और यदि आपका हार्ट रेट इससे ज्यादा हो तो स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है। वही डॉक्टर का कहना है की 120 से ज्यादा बार धड़कना स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है। 


तेज हार्ट रेट - क्या कारण हो सकता है ?

दिल की धड़कन दिल के अंदर या दिल के बाहर के कारणों के लिए तेज़ हो सकती है। हृदय की विद्युत प्रणाली अपने आप में एक तेज़ हृदय गति का कारण बन सकती है यदि इसके भीतर होने वाले ’शॉर्ट सर्किट’ हों। इन्हें टैकीयरियासिस के रूप में जाना जाता है। ये हृदय के शीर्ष कक्ष या निचले कक्ष से हो सकते हैं। दिल के शीर्ष कक्ष से तेज़ दिल की दर को शॉर्ट के लिए सुप्रावेंट्रिकुलर टैचीकार्डिया या एसवीटी के रूप में जाना जाता है। वे नियमित या अनियमित हो सकते हैं। तेजी से दिल की दर के लिए सबसे आम कारणों में से एक, खासकर अगर प्रकृति में अनियमित शॉर्ट के लिए अलिंद फिब्रिलेशन या वायुसेना के रूप में जाना जाता है। हृदय के निचले कक्ष से निकलने वाली तेज़ हृदय गति को लघु के लिए वेंट्रिकुलर टैचीकार्डिया या वीटी के रूप में जाना जाता है। ये आमतौर पर प्रकृति में नियमित हैं। वेंट्रिकुलर टैचीकार्डिया को तेजी से हृदय गति के अन्य कारणों की तुलना में सामान्य रूप से अधिक माना जाता है और तुरंत काम और ध्यान देने की आवश्यकता होती है।

इसे भी पढ़े -
6 उपाय ह्रदय रोग से बचने का 

हृदय गति शरीर में चल रही अन्य प्रक्रियाओं की प्रतिक्रिया के रूप में तेजी से हो सकती है। उदाहरण के लिए, यदि शरीर दर्द, संक्रमण, रक्त की कमी या सामान्य बीमारी से तनाव में है, तो हृदय की दर काफी बढ़ सकती है, अक्सर महत्वपूर्ण अंगों को रक्त प्रदान करने के लिए। जब किसी को दर्द होता है, तो तनाव हार्मोन के स्राव में वृद्धि होती है जो सीधे हृदय में रिसेप्टर्स पर अभिनय के माध्यम से हृदय गति को बढ़ाता है। थायरॉइड हॉर्मोन के ओवरप्रोडक्शन जैसे हार्मोन की समस्या हो सकती है जिससे हृदय गति बढ़ सकती है। जब शरीर सदमे में है, तो यह दिल के अंदर या बाहर से कारणों के लिए हो, हृदय गति काफी बढ़ जाएगी। उदाहरण के लिए, यदि हृदय की गति गंभीर रूप से बिगड़ा हुआ है और प्रति धड़कन रक्त की मात्रा कम हो जाती है, इसलिए हृदय गति को बढ़ाकर क्षतिपूर्ति करने का प्रयास करता है। अंत में यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि उत्तेजक पदार्थ जैसे पदार्थों का अंतर्ग्रहण जो सीधे हृदय गति को बढ़ाएगा, को तेज हृदय गति के कारण के रूप में खारिज करने की आवश्यकता है।

तेज हार्ट रेट - के लक्षण
fast heart rate
pc:medicalnewstoday
बहुत से लोगों के लक्षण नहीं होते हैं जब उन्हें पता चलता है कि उनकी हृदय गति तेज़ है। वे अक्सर अपनी पल्स दर की जाँच करते समय, या ब्लड प्रेशर मशीन या फिटबिट टाइप एक्सेसरी से इसे नोटिस करते हैं। कुछ रोगियों को थकान, सांस की कमी, चक्कर आना या थकान महसूस हो सकती है। यदि हृदय गति विशेष रूप से तेज होती है, तो लोगों को एक तेज़ सनसनी या धड़कन महसूस हो सकती है। यदि हृदय की गति विशेष रूप से तेज है, तो प्रकाश की अध्यक्षता या बेहोशी की भावना हो सकती है। एसवीटी के मामले में जो अप्रत्याशित समय पर आता है और रुक-रुक कर हो सकता है, वहाँ रुक-रुक कर हल्की-हल्की फुहारें पड़ सकती हैं। जब धड़कनें आती हैं, तो कुछ रोगियों में सीने में दर्द हो सकता है जो इस अवसर पर अंतर्निहित हृदय धमनी रोग की ओर इशारा कर सकते हैं। यदि पैल्पिटेशन अधिक गंभीर है, तो लोग परिणामस्वरूप बाहर निकल सकते हैं।

तेज हार्ट रेट - ऐसे करे कण्ट्रोल 

कही पानी का कमी तो नहीं हुआ - अक्सर हम देखते है की हमारे शरीर को ठीक ढंग से चलने में पानी का अहम योगदान है। पानी हमारे शरीर को स्वास्थ्य रखने का सबसे अच्छा इलाज़ है जितना पानी पिएंगे आपका शरीर उतना स्वस्थ्य रहेगा। यदि आपकी धड़कन बढ़ी हुए महसूस हो तो तुरंत 2 मिनट के लिए बैठ जाये और शांत होने के बाद एक गिलास पानी अवश्य पिए। 

कई बार पर्याप्त नींद नहीं होने के कारण भी दिल का धड़कन बढ़ जाता है इसीलिए पर्याप्त नींद ले। सामान्यतः 6 -7 घंटे का नींद लेना चाहिए , अगर आपको दिल का धड़कन बढ़ा हुआ महसूस हो तो आप 7 - 9 घंटे का नींद अवश्य ले। 

यदि कभी काम करने के दौरान आपकी धड़कन बढ़ जाये तो आप तुरंत काम को छोड़ दे और लेट जाये , खास ध्यान देने वाली बात है जहा आप लेटे हो उस जगह पंखा लगा हो या हवादार जगह होना चाहिए जिससे की हवा आपके शरीर में सीधा लगे।  इससे आपके शरीर को जल्दी आराम मिलेगा और धड़कन सामान्य हो जायेगा। 

अगर आप स्वस्थ्य रहना चाहते है तो तो आपको एक्सरसाइज करना होगा। सामान्यतः रोज एक्सरसाइज करने वाले लोग में धड़कन की समस्या 40 परसेंट काम हो जाती है। एक्सरसाइज पुरे शरीर को स्वस्थ्य रखता है। 
अगर आपका धड़कन बढ़ा हुआ हो तो आपको ऑक्सीमीटर या फिटनेस बेंड का प्रयोग करना चाहिए 

यदि आपका कोलेस्ट्रॉल या ब्लड प्रेशर बढ़ा हुआ हो और पहले कभी हार्ट अटैक आया हो तो आपको अपने खान पान पे ज्यादा ध्यान रखना होगा। और जो लोग स्वस्थ्य है अगर वो भी अपने खान पान में हेल्दी चीजों को लेंगे तो हार्ट अटैक के खतरों को टाला जा सकता है। बादाम, अखरोट, काजू, मछली, अंडा आदि का सेवन बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसके अलावा सब्ज़ी और फलों का सेवन करते रहे। 

केला और किसमिस आपके तेज हार्ट रेट कम करने में प्रभावी है 
तेज हार्ट बीट के बारे में और पढ़े 

Post a Comment

0 Comments